यूक्रेन पर संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव, रूस ने अफसोस जताया
Saturday, 29 March 2014 07:45

  • Print
  • Email

मास्को: मास्को ने कीव और उसके विदेशी प्रायोजकों द्वारा यूक्रेन की क्षेत्रीय अखंडता पर संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव पर अफसोस जताया है। शुक्रवार को रूस के विदेश मंत्रालय ने यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रस्ताव पर मतदान हुआ जिसमें क्रीमिया के रूस में विलय को मान्यता नहीं दी गई। मास्को ने प्रस्ताव को 'शीतयुद्ध कालीन प्रचार का हथकंडा' कहा है जिसका इस्तेमाल 'यूक्रेन में गंभीर राजनीतिक संकट' को छिपाने के लिए किया गया है।

रूसी विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है, "संयुक्त राष्ट्र के सदस्यों के बीच गहरा मतभेद नजर आता है। बड़ी संख्या में सदस्य या तो तटस्थ रहे या मतदान से गैरहाजिर रहे। यह इस बात का सबूत है कि यूक्रेन की घटनाओं की एकतरफा व्याख्या को स्वीकार नहीं किया गया है।"

गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा में पारित प्रस्ताव के पक्ष में 100 वोट पड़े और 11 विरोध में, जबकि 58 सदस्य तटस्थ रहे। प्रस्ताव में क्रीमिया की हैसियत में बदलाव को मान्यता नहीं देने की मांग की गई है।

रूस ने संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों पर समर्थन में मतदान करने के लिए दबाव डालने, राजनीतिक रूप से भयादोहन और आर्थिक धमकी देने का आरोप लगाया है।

प्रस्ताव को 'प्रतिकूल' करार देते हुए मास्को ने उल्लेख किया है कि दस्तावेज से यूक्रेन का संकट और जटिल होगा। रूस ने यूक्रेन में स्थिरता लाने के लिए देशों से 'रचनात्मक सोच और स्वतंत्रता' का आग्रह किया है।

इंडो-एशियन न्यूज सर्विस।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss