वालमार्ट, फ्लिपकार्ट समूह ने निंजाकार्ट में किया निवेश
Tuesday, 13 October 2020 08:26

  • Print
  • Email

बेंगलुरू: वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट समूह ने सोमवार को बेंगलुरू मुख्यालय वाली सप्लाई चेन प्लेटफॉर्म निंजाकार्ट में निवेश करने की घोषणा की, जो सीधे किसानों से ताजा उत्पाद लेती है और उसे खुदरा विक्रेताओं और व्यवसाइयों तक पहुंचाती है। इससे पहले वालमार्ट और फ्लिपकार्ट ने दिसंबर 2019 में भी कंपनी में निवेश किया था। यह कंपनी उपभोक्ताओं और खुदरा विक्रेताओं के लिए उच्च गुणवत्ता वाली ताजा उपज तक पहुंच सुनिश्चित करती है।

फंडिंग का यह दूसरा दौर ऐसे समय में आया है, जब फ्लिपकार्ट अपने सुपरमार्ट (किराना) और फ्लिपकार्ट क्विक (हाइपरलोकल बिजनेस) को बढ़ाने पर ध्यान दे रही है।

फ्लिपकार्ट समूह के सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति ने एक बयान में कहा, "भारत में ई-किराना बाजार में पिछले कई महीनों में जबरदस्त वृद्धि देखी गई है, क्योंकि लोगों की ओर से किराने का सामान और ऑनलाइन उत्पाद का ऑर्डर देने में तेजी आई है।"

फ्लिपकार्ट ग्रुप अपने ग्राहकों की जरूरतों के मुताबिक नए और इनोवेटिव रास्ते अपना रहा है। निंजाकार्ट फ्लिपकार्ट ग्रुप और वॉलमार्ट ग्रुप को भी ताजा उत्पादों की डिलिवरी करता है।

आने वाले महीनों में निंजाकार्ट इस पूंजी का इस्तेमाल नए मार्केट, नए ऑफर और उभरते ग्राहक सेगमेंट के लिए सप्लाई चेन तैयार करने में खर्च करेगा। साथ ही मौजूदा सप्लाई चेन को इनोवेटिव तरीके से ज्यादा किफायती, भरोसेमंद और मुनाफेदार बनाने के लिए पूंजी खर्च की जाएगी।

वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट ग्रुप का कहना है कि यह ट्रांजेक्शन अक्टूबर अंत तक पूरा हो जाएगा। हालांकि, दोनों कंपनियों ने निवेश की राशि की जानकारी नहीं दी है।

निंजाकार्ट के सीईओ और को-फाउंडर थिरुकुमारन नागराजन का कहना है कि वॉलमार्ट और फ्लिपकार्ट ग्रुप के नए निवेश से हम सेफ फूड के विजन के और करीब पहुंच जाएंगे। इससे हमारी थाली तक पहुंचने वाले फूड का तरीका बदल जाएगा। निंजाकार्ट की स्थापना 2015 में हुई थी। तब से अब तक यह स्टार्टअप टाइगर ग्लोबल, एसेल, टिंगलीन, स्टिडव्यू, सिनजेंटा, नंदन नीलकेणि और क्वालकॉम जैसे दिग्गज निवेश से फंड जुटा चुका है।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss