भारतवंशी वैज्ञानिक ने कैंसर कोशिकाओं को सामान्य कोशिका में बदला
Wednesday, 18 March 2015 17:36

  • Print
  • Email

वाशिंगटन :अमेरिका के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय में एक भारतवंशी शोधकर्ता ने खतरनाक रक्त कैंसर कोशिकाओं को सामान्य प्रतिरक्षा कोशिकाओं में बदलने का तरीका ढूंढ़ निकाला है। इन कोशिकाओं को 'मैक्रोफेजेज' कहा जाता है। मेडिसिन के सहायक प्रोफेसर रवि मजेती ने इसकी खोज तब की, जब वह एक मरीज से निकाली गई रक्त कैंसर कोशिकाओं को कल्चर प्लेट में जिंदा रखने की कोशिश कर रहे थे।

प्रोसिडिंग्स ऑफ द नेशनल अकादमी ऑफ साइंसेज पत्रिका में मजेती ने कहा, "उन्हें जिंदा रखने में मदद के लिए हम सबकुछ उनपर छोड़ रहे हैं।"

उल्लेखनीय है कि बी-कोशिका रक्त कैंसर कोशिकाएं कई मायनों में मूल कोशिकाएं हैं, जो कैंसर की अवस्था में अपरिपक्व रूप में रहने को मजबूर होती हैं। लेकिन जब ये परिपक्व हो जाती हैं, तो कैंसरमुक्त मैक्रोफेजेज का रूप ले लेती हैं, जो प्रतिरक्षा कोशिकाओं का एक प्रकार है।

अध्ययन के दौरान मजेती तथा स्कॉट मैक्लेलान ने पाया कि कल्चर के दौरान कुछ कैंसर कोशिकाएं अपना आकार बदलकर मैक्रोफेजेज जैसी कोशिकाओं में परिवर्तित हो रही थीं।

शोध दल ने इस बात की पुष्टि की कि यह प्रक्रिया मानव में कैंसर कोशिकाओं को माइक्रोफेजेज में बदल सकता है, जो कैंसर कोशिकाओं व रोगाणुओं का भक्षण कर सकता है।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.