शनिवार को गुरु ग्रह सबसे बड़ा और तेजस्वी होगा
Thursday, 05 February 2015 10:05

  • Print
  • Email

वडोदरा : आसमान के झरोखे में कहीं न कहीं आश्चर्य साकार होता रहता है। इस बार भी कुछ ऐसा ही होने जा रहा है। शनिवार को गुरु ग्रह पृथ्वी के सबसे नजदीक आएगा, जो बहुत ओजस्वी होगा।

यहां स्थित गुरुदेव वेधशाला के खगोलशास्त्री दिव्यदर्शन डी. पुरोहित ने एक बयान में कहा, "गुरु ग्रह शनिवार सुबह 6.18 बजे सूर्य के एकदम सामने होगा, जिसके चलते शुक्रवार रात्रि में वह सबसे बड़ा और सबसे तेजस्वी होगा। गुरु ग्रह के इस स्वरूप को देखने के लिए हमें इसके बाद अगले 13 माह तक इंतजार करना होगा। शनिवार रात पृथ्वी के एक ओर गुरु तो ठीक दूसरी ओर सूर्य होगा जिससे इस स्थिति का निर्माण होगा।"

पुरोहित के अनुसार, "सूर्यास्त के साथ गुरु ग्रह पूर्व दिशा में दिखाई देगा जो अगली सुबह तक तेजस्वी रहेगा। इस स्थिति का सबसे बेहतरीन नजारा सुबह छह बजे देखने को मिलेगा।"

पुरोहित ने कहा, "इस स्थिति के दौरान गुरु ग्रह आसमान के सबसे तेजस्वी तारे व्याध से भी तीन गुना तेजस्वी होगा। इससे तेजस्वी केवल शुक्र ग्रह और चन्द्रमा ही होंगे। चन्द्र की पूर्ण चांदनी में भी शुक्रवार रात गुरु ग्रह तेजस्वी दिखेगा। अगले एक माह तक उसे हर रात देखा जा सकेगा।"

पुरोहित ने कहा है, "अगर छोटा टेलिस्कोप या दूरबीन हो तो उससे आप गुरु के चारों चंद्रों को आसानी से देख सकेंगे। बड़े टेलिस्कोप की मदद से आप उसके दो डार्क बेल्ट भी देख सकेंगे, साथ ही उसका रोटेसन इक्वेटर बेल्ट और रेड स्पॉट भी इस दौरान आसानी से देख सकेंगे।"

पुरोहित के अनुसार, गुरु 10 घंटे में एक पूरा चक्कर घूम लेता है, यानी अगर आप शुक्रवार रात्रि जागकर देखेंगे तो, गुरु का पूरा दिन और रात देख सकेंगे। साथ ही गुरु के तीव्र चक्रण के कारण गुरु पूर्ण रूप गोलाकार नहीं दिखाई देगा, उसका भी नजारा लिया जा सकता है।

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Don't Miss