अक्टूबर के बाद तेजी आएगी, टीम सही दिशा की ओर अग्रसर : ललित
Wednesday, 23 September 2020 15:44

  • Print
  • Email

बेंगलुरू: भारतीय पुरुष हॉकी टीम के फॉरवर्ड ललित उपाध्याय ने एफआईएच प्रो लीग में जर्मनी के खिलाफ बेल्जियम टीम के शानदार प्रदर्शन की तारीफ की है। बेल्जियम ने जर्मनी से यह मुकाबला 6-1 से जीत लिया। कोविड-19 महामारी के कारण करीब छह महीने तक स्थगित रहने के बाद मंगलवार को दोबारा से लीग की शुरुआत हुई, जहां बेल्जियम ने जर्मनी को 6-1 से करारी मात दी।

भारतीय टीम इस साल की शुरुआत में जब बेल्जियम से भिड़ी थी तो उसने पहले मैच में बेल्जियम को 2-1 से हराया था, जबकि दूसरे मैच में उसे 2-3 से हार का सामना करना पड़ा था।

साई सेंटर में जारी अभ्यास शिविर में भाग ले रहे ललित ने कहा, "हम सभी लोग एफआईएच हॉकी प्रो लीग मैचों की शुरुआत के लिए उत्साहित थे। हालांकि हम एक कड़े मुकाबले की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन यह काफी एकतरफा था। जर्मन टीम ने अपने प्रतिद्वंद्वी के हमले के खिलाफ संघर्ष किया और सर्कल के अंदर बेल्जियम की सफलता बहुत प्रभावशाली थी।"

अनुभवी फॉरवर्ड ने कहा कि भारतीय टीम अभी फिलहाल अपने पहले की फॉर्म को हासिल करने की दिशा में काम कर रही है और मौजूदा शिविर में फिटनेस सर्वोच्च प्राथमिकता रही है।

उन्होंने कहा, " हॉकी इंडिया द्वारा उठाए गए शुरुआती उपायों की वजह से हम गतिविधियों को फिर से शुरू कर पाए, जिन्होंने अप्रैल के शुरू में हॉकी एसओपी सुनिश्चित किया था। हम सभी को दिशा-निर्देशों के बारे में जानकारी दी गई थी कि राष्ट्रीय शिविर शुरू होने के बाद एक बार फिर से गतिविधियों को फिर से शुरू किया जाएगा।"

ललित ने कहा, "अब हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता उसी फिटनेस स्तर को प्राप्त करना है जो हम इस वर्ष की शुरूआत में थे। ऐसा ही कुछ जर्मनी के साथ हुआ जोकि कल संघर्ष कर रहा था। इसलिए जब हम प्रतिस्पर्धी हॉकी में वापस आते हैं तो हमारे साथ ऐसा नहीं होना चाहिए।"

भारतीय फॉरवर्ड ने आगे कहा, "हम जानते हैं कि हॉकी इंडिया और कोचिंग स्टाफ ने हमारे लिए प्रतिस्पर्धी हॉकी को फिर से शुरू करने के लिए एक योजना बनाई है। हमें उम्मीद है कि हम उससे पहले अच्छे फॉर्म में आ सकते हैं। राष्ट्रीय शिविर में हमारी तेजी अक्टूबर के बाद से बढ़ेगी और हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं और हम किसी भी तरह की परिस्थितयों के लिए तैयार हैं।"

--आईएएनएस

ईजेडए/आरएएच

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.