दर्शक संख्या घटाने पर विवश हुए फ्रेंच ओपन आयोजक
Friday, 18 September 2020 13:58

  • Print
  • Email

पेरिस: क्ले कोर्ट के एकमात्र ग्रैंड स्लैम फ्रेंच ओपन का आयोजन 27 सितम्बर से होना है। मूल रूप से मई में होने वाले इस टूर्नामेंट की नई तारीख की घोषणा के वक्त आयोजकों ने कहा था कि हर दिन मैचों के लिए 11500 दर्शकों को स्टेडियमों में प्रवेश की अनुमति होगी लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण आयोजक दर्शक संख्या घटाने पर मजबूर हुए हैं। फ्रेंच टेनिस फेडरेशन ने कहा है कि देश में जिस तेजी से हाल के दिनों में कोरोना के मामले बढ़े हैं, उसे देखते हुए अब स्टेडियम में 11,500 दर्शकों का प्रवेश सम्भव नहीं हो सकेगा। अब एक दिन में सिर्फ 5000 दर्शकों को प्रवेश मिल सकेगा।

एफएफटी के मुताबिक ऐसा पेरिस पुलिस विभाग के कहने पर किया जा रहा है। एफएफटी के मुताबिक एक दिन में फिलिप कार्टियर और सुजेन लेंग कोर्ट पर पहले 5-5 दर्शकों के प्रवेश की अनुमति की थी लेकिन अब यह संख्या कम कर दी गई है।

फ्रेंच ओपन का आयोजन रोलां गैरों परिसर में होता है, जो 12 एकड़ में फैला हुआ है और इतनी जगह के लिए 5000 दर्शक अगर होंगे तो सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया जा सकेगा।

फ्रेंच ओपन का आयोजन 27 सितम्बर से 11 अक्टूबर तक होना है।

इस बीच, हाल ही में अमेरिकी ओपन खिताब जीतने वाली जापान की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी नाओमी ओसाका नें फ्रेंच ओपन से अपना नाम वापस ले लिया है।

ओसाका ने न्यूयार्क में बीते सप्ताह अपने करियर का तीसरा ग्रैंड स्लैम खिताब जीता था। वह अभी हैमस्ट्रिंग इंजुरी से परेशान हैं और इसी कारण उन्होंने फ्रेंच ओपन में नहीं खेलने का फैसला किया है।

22 साल की ओसाका ने सोशल मीडिया के माध्यम से यह जानकारी साझा की। ओसाका ने लिखा, "दुर्भाग्य से मैं इस साल फ्रेंच ओपन में नहीं खेल पाउंगी। मेरा हैमस्ट्रिंग अच्छी स्थिति में नहीं है और मेरे पास क्ले कोर्ट इवेंट के लिए तैयारी का भी वक्त नहीं है। मैं आयोजकों और खिलाड़ियों का शुभकामनाएं देती हूं।"

ओसाका के अलावा वर्ल्ड नम्बर-1 और मौजूदा चैम्पियन एश्ले बार्टी ने भी इस साल फ्रेंच ओपन से दूर रहने का फैसला किया है। बार्टी ने कहा है कि वह स्वास्थ कारणों और तैयारी की कमी के कारण इस साल रोलां गैरों में नहीं खेल सकेंगी।

--आईएएनएस

जेएनएस

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.