लखनऊ: उत्तर प्रदेश ने कोरोना आपदा शुरू होने के बाद देश-विदेश से 40 से अधिक निवेश प्रस्तावों को आकर्षित करने में सफलता प्राप्त की है। इनमें जापान, अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, जर्मनी, दक्षिण कोरिया आदि देशों की कंपनियों के लगभग 45,000 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव शामिल हैं। औद्योगिक विकास प्राधिकरणों ने निवेश परियोजनाओं के लिए 426 एकड़ भूमि भी आवंटित कर दी है। इन परियोजनाओं से 1.35 लाख लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है।

अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टंडन ने शुक्रवार को यह जानकारी प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी। उन्होंने बताया कि इन प्रस्तावों में जो क्रियान्वयन की दिशा में बढ़ चुके हैं उनमें प्रमुख रूप से हीरानंदानी ग्रुप की ओर से गौतम बुद्ध नगर में 750 करोड़ रुपये की लागत से डाटा सेंटर स्थापित करने का प्रस्ताव है। ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज की ओर से बाराबंकी में 300 करोड़ रुपये की लागत से खाद्य प्रसंस्करण इकाई स्थापित करने का प्रस्ताव है। एसोसिएटेड ब्रिटिश फूड पीएलसी की ओर से खमीर बनाने के लिए 750 करोड़ रुपये का निवेश प्रस्ताव भी मैच्योर हो चुका है।

इसके साथ ही डिक्सन टेक्नोलॉजीज की ओर से कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में नोएडा/ ग्रेटर नोएडा में 200 करोड़ रुपये का निवेश प्रस्तावित है। जर्मनी की वॉन वेलिक्स कंपनी की ओर से फुटवियर निर्माण में 300 करोड़ रुपये का निवेश यमुना एक्सप्रेस वे प्राधिकरण क्षेत्र में प्रस्तावित है। सूर्या ग्लोबल फ्लेक्सी फिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड की ओर से यमुना प्राधिकरण क्षेत्र में मेटलाइज्ड फिल्म्स प्रोडक्शन प्लांट स्थापित करने का प्रस्ताव है जिसमें 953 करोड़ रुपये का निवेश प्रस्तावित है।

टंडन ने बताया बीते छह महीनों में प्रदेश की औद्योगिक विकास प्राधिकरणों ने निवेश परियोजनाओं के लिए 426 एकड़ भूमि (326 भूखंड) आवंटित की है। इन परियोजनाओं में लगभग 6700 करोड़ रुपये का निवेश प्रस्तावित है और 1.35 लाख लोगों को रोजगार मिलने की संभावना है।

अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त टंडन ने बताया कि सैमसंग ने चीन में प्रस्तावित डिस्प्ले मैन्युफैक्चरिंग यूनिट को नोएडा में स्थापित करने का निर्णय किया है। कंपनी ने नोएडा में अपनी मोबाइल मैन्युफैक्चरिंग इकाई के पास डिस्प्ले मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाने के लिए 4800 करोड़ रुपये का निवेश प्रस्ताव दिया है। कंपनी ने परियोजना पर काम शुरू कर दिया है। यहां जनवरी से उत्पादन शुरू होने की संभावना है और अप्रैल से वाणिज्यिक उत्पादन शुरू हो जाएगा।

नई दिल्‍ली: मध्‍य प्रदेश में नेताओं का एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। वार पलटवार के बीच नेता अक्‍सर मर्यादा की सीमा रेखा तोड़ दे रहे हैं। वहीं विवादित बयानों को लेकर निर्वाचन आयोग भी सख्‍त हो गया है। निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को आचार संहिता के उल्‍लंघन को लेकर राज्‍य के पूर्व मुख्‍यमंत्री एवं दिग्‍गज कांग्रेस नेता कमल नाथ पर सख्‍त कार्रवाई की। आयोग ने कमल नाथ (Kamal Nath) के स्‍टार कैंपेनर का दर्जा रद कर दिया है। यही नहीं चुनाव आयोग ने कैलाश वियजवर्गीय को भी आचार संहिता के उल्‍लंघन पर चेतावनी दी है...

समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, निर्वाचन आयोग ने यह भी कहा है कि स्‍टार कैंपेनर का दर्जा रद किए जाने के बाद अब आगे वह जिस विधानसभा में प्रचार करेंगे उनके उस चुनावी अभियान का पूरा खर्च संबंधित उम्‍मीदवार के खाते में जाएगा। समाचार एजेंसी पीटीआइ ने आयोग के हवाले से बताया है कि कमल नाथ के खिलाफ यह कार्रवाई उनके बार बार आचार संहिता के नियमों की अनदेखी के चलते की गई है। अब आगे कमल नाथ जिस प्रत्‍याशी के लिए प्रचार करेंगे उनकी यात्रा और ठहरने से लेकर तमाम खर्च उम्‍मीदवार के चुनावी खर्च में जुड़ेगा। 

बता दें कि निर्वाचन आयोग ने मध्‍य प्रदेश में 28 सीटों पर हो रहे विधानसभा उपचुनाव को लेकर उम्‍मीदवारों के चुनावी खर्चों की एक सीमा तय की है। हाल ही में कमलनाथ ने भाजपा प्रत्‍याशी इमरती देवी पर अमर्यादित बयान दिया था। इसे लेकर भाजपा ने चुनाव आयोग में शिकायत की थी। वहीं महिला अयोग ने चुनाव आयोग से कमल नाथ पर उचि‍त कार्रवाई करने की अपील की थी। आयोग ने इस मामले में कमल नाथ को नोटिस जारी कर 48 घंटे के  भीतर जवाब मांगा था। बीते दिनों आयोग ने कहा था कि कमल नाथ ने भाजपा की महिला प्रत्याशी के खिलाफ अमर्यादित शब्द का इस्तेमाल कर आचार संहिता तोड़ी है।  

समाचार एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक, निर्वाचन आयोग ने भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी (चुन्नू-मुन्नू) को भी आचार संहिता के प्रावधानों का उल्लंघन माना है। आयोग ने इसे लेकर विजयवर्गीय को सख्‍त चेतावनी दी है। आयोग ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और कमलनाथ के खिलाफ कैलाश विजयवर्गीय की अभद्र टिप्पणी ('चुन्नू-मुन्नू') आचार संहिता का उल्लंघन है। हम विजयवर्गीय को आचार संहिता की अवधि के दौरान सार्वजनिक तौर पर ऐसे शब्‍दों का इस्तेमाल नहीं करने की नसीहत देते हैं। 

समाचार एजेंसी पीटीआइ के मुताबिक, निर्वाचन आयोग को दिए गए जवाब में विजयवर्गीय ने कहा था कि नोटिस में जिन टिप्पणियों का जिक्र किया गया है उन्‍हें संदर्भ से बाहर समझा गया है। लेकिन आयोग इस सफाई से सहमत नहीं हुआ उसने ने अपने आदेश में कहा है कि हमने मामले पर अच्छी तरह विचार-विमर्श किया और हमारा मानना है कि कैलाश विजयवर्गीय ने राजनीतिक दलों एवं उम्मीदवारों के मार्गदर्शन संबंधी आदर्श आचार संहिता के पहले भाग के दूसरे पैराग्राफ का उल्लंघन किया है। आयोग ने साफ कहा है कि किसी भी नेता को आदर्श आचार संहिता लागू होने के दौरान सार्वजनिक तौर पर ऐसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। 

इस्तांबुल: तुर्की और ग्रीस के बीच समुद्री तट समोस में शुक्रवार को एक शक्तिशाली भूकंप आया। जिससे तुर्की के पश्चिमी इजमिर राज्य में कई इमारतें गिर गईं और कम से कम चार लोगों की मौत हो गई। इस दौरान दर्जनों लोग घायल हो गए, जबकि कुछ इमारतों और सड़क नेटवर्क को नुकसान पहुंचा और समोस तट क्षतिग्रस्त हो गया।

तुर्की के स्वास्थ्य मंत्री फहार्टिन कोका ने ट्वीट किया कि इजमिर में चार लोग मारे गए और 120 घायल हुए हैं। उन्होंने कहा कि इजमिर में 38 एम्बुलेंस, दो एम्बुलेंस हेलीकॉप्टर और 35 चिकित्सा बचाव दल काम कर रहे हैं।

बता दें कि इजमिर तुर्की की तीसरा सबसे बड़ा शहर है। यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के मुताबिक रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 7.0 मापी गई है और इससे तुर्की, एथेंस और ग्रीस प्रभावित हुए हैं। भूकंप सिर्फ तुर्की में ही नहीं महसूस हुए, बल्कि ग्रीस भी इससे प्रभावित हुआ है। यहां भी 6.9 तीव्रता का भूकंप महसूस किया गया। भूकंप का केंद्र 52 किमी गहराई में बताया गया है। 

भूकंप के बाद शुरुआती घंटों में अफरा तफरा मच गई। लोग दहशत के चलते घरों और मीनारों से बाहर निकल आए हैं। दोनों ही देशों के प्रशासन पूरी तरह से सतर्कता और बचाव कार्य पर लगे हुए हैं।

पेरिस: मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद के विवादित ट्वीट को ट्विटर ने हटा दिया गया है। इसके बाद भी फ्रांस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर उनके अकाउंट को निलंबित करने की मांग कर रहा है। गौरतलब है कि पूर्व मलेशियाई प्रधानमंत्री ने गुरुवार को ट्वीट में कहा कि मुसलमानों को क्रोधित होने का और लाखों फ्रांसीसी लोगों को मारने का अधिकार है।

हालांकि ट्विटर ने प्लेटफॉर्म के नियमों का उल्लंघन करने वाला बता कर उनके विवादित ट्वीट को हटा दिया है। वहीं इससे पहले ट्विटर ने ट्वीट को सार्वजनिक हित के लिए प्लेटफॉर्म पर रहने की अनुमति दी थी।

फ्रांस के जूनियर डिजिटल मामलों के मंत्री सेड्रिक ओ ने गुरुवार रात कहा कि उन्होंने फ्रांस में ट्विटर के प्रबंध निदेशक के साथ बातचीत की है और महातिर के आधिकारिक अकाउंट को तत्काल निलंबित करने का आह्वान किया है।

मंत्री ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कहा, "यदि ऐसा नहीं होता है, तो ट्विटर उन हत्या में उनका भागीदार होगा।"

फ्रांस में अल्लाह हू अकबर का नारा लगाने वाले आतंकवादी के हमले के कुछ ही घंटे बाद महातिर ने कई ट्वीट में पैगंबर मोहम्मद के चार्ली हेब्दो के कार्टून को लेकर मुसलमानों की हिंसक प्रतिक्रिया को उचित ठहराया।

मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री ने फ्रांस को चेतावनी देते हुए ट्वीट में कहा, "एक क्रोधित व्यक्ति द्वारा किए गए कृत्य के लिए आपने सभी मुस्लिमों और मुस्लिम धर्म को दोषी ठहराया है, ऐसे में मुसलमानों को फ्रांस के लोगों को दंडित करने का अधिकार है। इन सभी सालों में फ्रांसीसियों द्वारा किए गए गलतियों के लिए सिर्फ उनका बहिष्कार काफी नहीं।"

अपने ट्विटर के बाकी हिस्सों में, उन्होंने पश्चिमी संस्कृति के लिए तिरस्कार व्यक्त किया।

--आईएएनएस

एमएनएस-एसकेपी

नई दिल्ली: कोरोना काल में बच्चों के स्कूल बंद होने के चलते खिलौने की बिक्री सुस्त पड़ जाने से आर्थिक चुनौतियों से जूझ रहे देश के खिलौना कारोबारियों के सामने भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) प्रमाणन की अनिवार्यता का अनुपालन करने को लेकर मुश्किलें खड़ी हो गई हैं। अगले साल एक जनवरी से बीआईएस द्वारा प्रमाणित खिलौने ही देश के बाजार में बिक सकेंगे, जिसके लिए खिलौना विनिर्माताओं को अपनी फैक्ट्रियों में बीआईएस से प्रत्यापित लैब लगाने होंगे।

खिलौना कारोबारी बताते हैं कि लैब लगाने का खर्च इतना अधिक है कि छोटे कारोबारियों के लिए इस खर्च को वहन करना मुश्किल है। ट्वॉय एसोसिएशन ऑफ इंडिया के प्रेसीडेंट अजय अग्रवाल ने आईएएनएस से कहा कि एक लैब लगाने में तकरीबन आठ से 10 लाख रुपये खर्च होता है और छोटे कारोबारी इतना खर्च नहीं उठा सकता।

अग्रवाल ने कहा, "हमने सरकार से कहा है कि छोटे कारोबारियों को उनके खिलौने को थर्ड पार्टी लैब से टेस्ट करवाने के बाद पास होने पर बेचने की इजाजत दी जाए।" उन्होंने कहा कि देश में करीब 5,000 से 6,000 खिलौना विनिर्माता हैं, लेकिन नये नियम के तहत लाइसेंस के लिए महज 125 कारोबारियों ने आवेदन किया है जिनमें से 25 लोगों को लाइसेंस मिला है।

उन्होंने कहा कि अगले साल से एक जनवरी से खिलौना (गुणवत्ता नियंत्रण) आदेश लागू होने जा रहा है, लेकिन लाइसेंस के लिए आवेदन करने की गति इतनी सुस्त है कि आगे खिलौने का विनिर्माण, आयात व आपूर्ति में मुश्किलें आएंगी, इसलिए सरकार को या तो नियमों में ढील देनी होगी या फिर समय बढ़ाना होगा।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के तहत आने वाले उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग द्वारा 25 फरवरी, 2020 को जारी खिलौना (गुणवत्ता नियंत्रण) आदेश के अनुसार, खिलौने पर भारतीय मानक चिह्न् यानी आईएस मार्क का इस्तेमाल अनिवार्य होगा। यह आदेश एक सितंबर 2020 से प्रभावी होना था, मगर बाद में 31 दिसंबर 2020 तक की छूट दी गई और अब एक जनवरी 2020 से प्रभावी होगा।

अग्रवाल ने बताया कि चीन से खिलौने का आयात अभी हो रहा है, लेकिन आयात में पिछले साल के मुकाबले करीब 20 फीसदी की कमी आई है।

दिल्ली-एनसीआर के खिलौना कारोबारी और प्लेग्रो ट्वॉयज ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर मनु गुप्ता ने बताया कि चीन से खिलौने के आयात में काफी कमी आई है। हालांकि उन्होंने कहा कि कोरोना काल में देश में खिलौने की बिक्री भी काफी सुस्त रही है, क्योंकि स्कूल बंद हैं और खिलौने की सरकारी खरीद भी कम हो रही है। गुप्ता ने कहा कि जहां तक सीधे एंड-कंज्यूमर की खरीद का सवाल है तो इंडोर प्ले आइटम्स की मांग इस समय काफी ज्यादा है, लेकिन लग्जरी व मॉर्डन ट्यॉज की मांग अच्छी नहीं है, जिनमें आउटडोर ट्यॉज, लाइट एंड म्ॅयूजिक के खिलौने, रिमोट कंट्रोल के खिलौने आते हैं जिनका बाजार सुस्त है।

उन्होंने कहा कि छोटे बच्चों के स्कूल बंद होने से स्कूलों द्वारा खिलौने की खरीद बिल्कुल नहीं हो रही है। गुप्ता ने बताया कि खिलौने के सबसे बड़े खरीददार सरकार होती है। उसके बाद स्कूल, फिर एंड-कंज्यूमर। सरकार आंगनवाड़ी व बच्चों के स्कूलों के लिए खिलौने खरीदती है।

गुप्ता ने बताया कि मॉल में जो खिलौने के कॉर्नर की दुकानें होती थीं वे तकरीबन बंद हो चुकी हैं। उन्होंने भी बताया कि सरकार के नये नियमों का पालन करना माइक्रो स्तर के खिलौना विनिर्माताओं के लिए कठिन है क्योंकि लाइसेंस लेने के लिए जितना खर्च होता है उतना कई कारोबारियों का निवेश भी नहीं है।

कारोबारियों के मुताबिक, देश में खिलौने का रिटेल कारोबार करीब 18,000-20,000 करोड़ रुपये का है, जिसमें करीब 75 फीसदी खिलौने चीन से आते हैं। लेकिन उनका कहना है कि सरकार द्वारा खिलौने के देसी कारोबार को बढ़ावा देने के मकसद से बनाए गए नियमों का आने वाले दिनों में लाभ देखने को मिलेगा, हालांकि छोटे कारोबारियों के लिए नियमों में थोड़ी ढील देने की जरूरत है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विगत में 'मन की बात' रेडियो कार्यक्रम के दौरान देश की युवा प्रतिभाओं से भारतीय थीम वाले गेम्स बनाने की अपील की थी। मोदी ने कहा कि हमारे देश में लोकल खिलौनों की बहुत समृद्ध परंपरा रही है।

भारत के कुछ क्षेत्र टॉय क्लस्टर्स के रूप में भी विकसित हो रहे हैं। कर्नाटक के रामनगरम में चन्नापटना, आंध्र प्रदेश के कृष्णा में कोंडापल्ली, तमिलनाडु में तंजौर, असम में धुबरी, उत्तर प्रदेश का वाराणसी कई ऐसे नाम हैं।

--आईएएनएस

पीएमजे-एसकेपी

लॉस एंजेलिस: हॉलीवुड अभिनेत्री स्कार्लेट जोहान्सन और कॉमेडियन कॉलिन जोस्ट एक निजी समारोह में शादी के बंधन में बंध गए हैं। चैरिटी मिल्स ऑन व्हील्स द्वारा इंस्टाग्राम पर इस खबर की पुष्टि की गई है। कोविड-19 महामारी के द्वारा वयस्कों को सहायता दिए जाने के इस समूह के प्रयास को नव-विवाहित जोड़े का समर्थन मिला है।

समूह की तरफ से किए गए पोस्ट में लिखा गया है, "हम यह जानकारी देते हुए बेहद रोमांचित महसूस कर रहे हैं कि स्कार्लेट जोहान्सन और कॉलिन ने इस हफ्ते एक निजी समारोह में अपने परिजनों व करीबियों की उपस्थिति में शादी कर ली है। इस दौरान सीडीसी द्वारा निर्देशित सुरक्षा उपायों का ध्यान रखा गया।"

इसमें आगे कहा गया, "इस मुश्किल घड़ी में कमजोर वृद्धजनों की मदद कर उनकी जीवनशैली में कुछ अंतर लाना ही इनकी वेडिंग विश रही है और इन्होंने मील्स ऑन व्हील्स अमेरिका को अपना समर्थन प्रदान कर ऐसा किया है। आप भी लिंक पर क्लिक कर डोनेशन के माध्यम से इस नव-विवाहित जोड़े की खुशी में शामिल होइए।"

--आईएएनएस

एएसएन-एसकेपी

दुबई: तीन बार की चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स आईपीएल-13 की प्लेऑफ दौर से बाहर हो चुकी है, लेकिन टीम के सलामी बल्लेबाज ऋतुराज गायकवाड़ ने कहा है कि ड्रेसिंग रूम का माहौल अब भी काफी शांत है और ऐसा लगता ही नहीं है कि चेन्नई टूर्नामेंट से बाहर हो चुकी है। चेन्नई गुरुवार को आईपीएल के इतिहास में पहली बार प्लेऑफ में जगह नहीं बना पाई। चेन्नई ने गुरुवार को दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए मैच में कोलकाता नाइट राइडर्स को छह विकेट से हराकर टूर्नामेंट में अपनी पांचवीं जीत दर्ज की।

ऋतुराज ने 53 गेंदों पर छह चौके और दो छक्कों की मदद से 72 रन बना कर टीम को जीत दिलाई।

गायकवाड ने अपने टीम साथी शेन वाटसन के साथ बातचीत के दौरान कहा, "निश्वित रूप से, मैं अपने फॉर्म को जारी रखना चाहता हूं और टीम के लिए मैच जीतना चाहता हूं। इसके अलावा और कुछ मायने नहीं रखता। उम्मीद है, हम जीत के साथ टूर्नामेंट की समाप्ति करेंगे और अगले साल भी इस लय को जारी रख पाएंगे।"

उन्होंने कहा, "ड्रेसिंग रूम का माहौल काफी शांत है। ऐसा लगता ही नहीं है कि हम टूर्नामेंट से बाहर हुए हैं। जब हम पहला मैच जीते थे और अब जब इस मैच को जीते हैं, तब भी माहौल एक जैसा ही है। इससे काफी मदद मिलती है।"

इस बीच, आस्ट्रेलिया के दिग्गज आलराउंडर वाटसन ने भी गायकवाड की जमकर तारीफ की।

वाटसन ने कहा, "ऋतुराज को इस तरह की शानदार बल्लेबाजी करते हुए देखना मेरे लिए गर्व की बात है। एक युवा के लिए आईपीएल जैसे बड़े मंच पर इस तरह की का प्रदर्शन करना, बेहद प्रभावित करता है।"

चेन्नई को अब लीग में अपना आखिरी मैच रविवार को किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ खेलना है।

--आईएएनएस

ईजेडए-एसकेपी

गुरुग्राम: हरियाणा सरकार ने निजी प्रयोगशालाओं के लिए आरटी-पीसीआर और रैपिड एंटीजन कोविड-19 की टेस्ट की कीमतों में क्रमश: 900 रुपये और 500 रुपये घटा दिए हैं। इस संबंध में हरियाणा के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा ने आदेश जारी किया।

पहले आरटी-पीसीआर और निजी प्रयोगशालाओं में रैपिड एंटीजन टेस्ट 1,200 रुपये और 650 रुपये थे।

यह तीसरी बार है जब हरियाणा सरकार ने निजी प्रयोगशालाओं में रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पोलीमरेज चेन रिएक्शन के माध्यम से परीक्षण के लिए कीमतों में कमी की है।

राज्य सरकार ने 3 अक्टूबर को आरटी-पीसीआर टेस्ट की लागत 1,600 रुपये से घटाकर 1,200 रुपये कर दी थी।

स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, विशेषज्ञों से विचार- विमर्श के बाद नई दर तय की गई है।

आदेश में कहा गया, "निजी प्रयोगशालाओं की किट और उपभोग्य सामग्रियों की लागत को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है। कीमत में सभी कर शामिल हैं।"

इसके अलावा लैब को भी प्रदर्शित तरीके से दरों को दिखाने का निर्देश दिया गया है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी, वीरेंद्र यादव ने कहा, "यह लागत सिर्फ राज्य के निवासियों के लिए लागू है। इससे ज्यादा से ज्यादा लोग टेस्ट कराने के लिए आगे आएंगे।"

--आईएएनएस

एमएनएस-एसकेपी

वेलिंगटन: न्यूजीलैंड में 17 अक्टूबर के आम चुनावों के लिए जब प्रचार चल रहा था, तब 200,000 से अधिक अपमानजनक ट्वीट के जरिए महिला उम्मीदवारों पर निशाना साधे गए, जिनमें प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न भी शामिल थी। शुक्रवार को इसका खुलासा हुआ। समाचार पत्र द न्यूजीलैंड हेराल्ड के अनुसार, प्रचार अभियानों के दौरान, अपमानजनक ट्वीट्स को खोजने और उनका मुकाबला करने के लिए काम कर रहे, पैरिटी बॉट ने 200,000 से अधिक अपमानजनक ट्वीट को पिक किया, जिसमें सबसे अधिक अर्डर्न, विपक्ष के नेता जूडिथ कोलिन्स और सांसद क्लोई स्वारब्रिक को निशाना बनाया गया।

क्रिएटिव टेक्नोलॉजिस्ट जैकलीन कॉमर, जो ऑटरे लैब्स के साथ पहली बार न्यूजीलैंड में इस तकनीक को लाने के लिए काम कर रही हैं, ने कहा कि बॉट ने फिल्टर के साथ मशीन-लनिर्ंग मॉडल के माध्यम से उम्मीदवारों को किए गए अपमानजनक ट्वीट का पता लगाया।

उन्होंने कहा, "हालांकि, बॉट ने पूरी तरह से महिला उम्मीदवारों पर ध्यान केंद्रित किया "जिसका मकसद सोशल मीडिया पर महिलाओं द्वारा सामना किए जाने वाले अपमानजनक संदेशों को लेकर जागरूकता लाना था।"

न्यूजीलैंड में पुरुष उम्मीदवारों के लिए अपमानजनक संदेशों की तुलना करने के लिए कोई डेटा नहीं था।

महिलाओं को अक्सर भयानक संदेश प्राप्त होते हैं, जिसमें यौन हिंसा, दुष्कर्म और मौत की धमकियों के बारे में होते हैं।

हाल ही में हुए चुनावों में अर्डर्न ने दूसरे कार्यकाल के लिए जबरदस्त जीत हासिल की है।

उनकी लेबर पार्टी ने 49 फीसदी वोट हासिल किए।

चुनाव के आधिकारिक परिणाम 6 नवंबर को जारी किए जाएंगे।

--आईएएनएस

वीएवी-एसकेपी

जयपुर: देश में कोविड-19 की रिकवरी दर में भले ही बढ़त देखने को मिल रही है, लेकिन अब चिकित्सकों व मरीजों को इससे उबरने के बाद की स्थिति की चिंता सता रही है।

एसएमएस मेडिकल कॉलेज में प्रिंसिपल और कंट्रोलर डॉ. सुधीर भंडारी ने कहा, "हमने एक नए ट्रेंड पर गौर फरमाया है कि नेगेटिव पाए गए मरीजों में अब सांस लेने में तकलीफ, तनाव, मधुमेह, दिल की बीमारी, किडनी व अग्नाशय में दिक्कत और शारीरिक थकान जैसी समस्याएं देखने को मिल रही हैं।"

उन्होंने आगे कहा, "हमारी टीम की सलाहों के आधार पर राज्य सरकार ने 21 अक्टूबर को राज्य भर के हर जिला मुख्यालय में पोस्ट-कोविड क्लीनिकों के निर्माण के आदेश जारी किए हैं।"

इन क्लीनिकों में कोरोना से ठीक होने के बाद सामने आ रही अन्य स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का उपचार तीन स्तरों पर किया जाएगा, जिसमें फिजियोथेरेपी, मनोचिकित्सा, दिल व किडनियों के नैदानिक परीक्षण इत्यादि शामिल होंगे।

इसके बाद, मरीजों को उपचार, ब्रीदिंग एक्सरसाइज, दैनिक गतिविधि और मानसिक स्वास्थ्य संबंधी सलाह दिए जाएंगे।

अगर जयपुर से सामने आए आंकड़ों की बात करें, तो कोरोना से ठीक हुए मरीजों के बीमार पड़ने की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है क्योंकि इनमें भी ऊपर बताए गए स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं देखने को मिल रही हैं।

अधिकारियों ने बताया, जयपुर में एसएमएस हॉस्पिटल की तरफ से सितंबर में एक पोस्ट-कोविड ओपीडी की स्थापना की गई है, जहां 11,000 से अधिक मरीजों की भिन्न शिकायतें दर्ज की गई हैं। इनमें से कई मरीजों को आईसीयू में भी भर्ती कराना पड़ा है।

--आईएएनएस

एएसएन-एसकेपी

Page 1 of 16474