धर्मा प्रोडक्शन के पूर्व अधिकारी क्षितिज को 3 अक्टूबर तक एनसीबी की हिरासत
Sunday, 27 September 2020 19:23

  • Print
  • Email

मुंबई: मुंबई की एक अदालत ने धर्मा प्रोडक्शन के एक पूर्व अधिकारी क्षितिज आर. प्रसाद को 3 अक्टूबर तक नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) की हिरासत में भेज दिया है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। प्रसाद पर एक व्यापारी से मादक पदार्थ खरीदने का आरोप है। साथ ही उसपर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कई पैडलर्स या सप्लायर्स के साथ संबंध रखने का भी आरोप है। इनमें से कई को ड्रग्स मामले में चल रही जांच के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है।

हालांकि क्षितिज ने सभी आरोप से इनकार किया है और दावा किया है कि उसे इस मामले में फंसाया गया है।

धर्मा प्रोडक्शन के पूर्व अधिकारी प्रसाद को पूछताछ के बाद एनसीबी ने शनिवार शाम हिरासत मे लिया था।

उसे एनसीबी ने मजिस्ट्रेट कोर्ट के समक्ष पेश किया और नौ दिन की रिमांड मांगी, लेकिन अदालत ने 3 अक्टूबर तक यानी छह दिन की रिमांड की मंजूरी दी।

सात पन्नों के रिमांड आवेदन में, एनसीबी के ज्वाइंट इंटिलिजेंस अधिकारी मुरारी लाल ने कहा कि इससे पहले गिरफ्तार एक पैडलर संकट पटेल ने प्रसाद को एक अन्य सह आरोपी करमजीत सिंह आनंद के निर्देश पर गांजा दिया था।

फिलहाल जमानत पर बाहर, पटेल ने कहा था कि उसने प्रसाद को मई से जुलाई 2020 के बीच 12 बार अंधेरी वेस्ट स्थित अडानी बिल्डिंग में उसके घर के बाहर गांजा दिया था।

इनमें से प्रत्येक 50 गा्रम के लिए प्रसाद ने 3500 रुपये दिए और इस प्रकार उसने 600 ग्राम गांजा लिए, जिसकी कीमत 42,000 रुपये है।

इसी तरह से अन्य आरोपी अंकुश अनेजा के बयान के आधार पर एनसीबी ने 25 सितंबर को प्रसाद के घर पर छापा मारा। हालांकि एजेंसी ने शुक्रवार को इससे इनकार किया था।

एजेंसी ने अपनी रिमांड याचिका में कहा, एनसीबी के अधिकारी ने वहां से एक रोल ज्वाइंट बरामद किया, जोकि संभवत: स्मोक किए जाने वाले गांजा रोल में प्रयोग में लाया जाता है।

प्रसाद ने कथित रूप से इस बात को स्वीकार किया कि उसने अनरेजा और करमजीत से पटेल के लिए हशीश खरीदा था, जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया।

प्रसाद की गिरफ्तारी के साथ ही एनसीबी की ओर से ड्रग्स मामले में गिरफ्तार किए लोगों की संख्या बढ़कर 20 हो गई है।

--आईएएनएस

आरएचए/एसकेपी

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.